कुदूस कुदूस कुदूस कुदूस
वो ही है पाक खुद
लकड़ी पे लटका नासरी
देने को ज़िन्दगी
वो ही बना था लानती
देने को रास्ती

हाल्लेलुयाह …

तेरे लहू से धुलने वाला
रुतबा तेरा जाने
तेरे कलाम को पढ़ने वाला
ज़ात तेरी पहचाने

कदमों से तेरे जो भी लिपटे
ताज़ा मन वो ही खाये
परस्तिश की माला जपने वाला
भरपूर जीवन पाए

पर्दा हटा फटी कब्र
मौत पे फतह पायी
कुर्बान हो के तू ने यीशु
मेरा जान बचाई

Your Content Goes Here